UMAR SERIES l THE FIRST PILGRIMAGE l EP-14 l PART-02 l HINDI/URDU

0
9384





क़ुरैश में करार को लेकर एक तरह से जश्न का माहौल बरपा था. और इसका सेहरा सुहैल इब्न अम्र के सर पर बांधा गया. हांलाकि यह ख़ुशी ज्यादा दिन के लिए न थी. अबू नसीर ने फैसला किया की यह मुआइदाह नबी ﷺ और क़ुरैश के दरमयान में है इसी वास्ते न वह अब मक्का की तरफ रवाना होंगे न मदीना रुजू करेंगे और कहीं और अपना मुक़ाम बनाएंगे जब तक यह मुआइदाह ख़तम नहीं हो जाता. उनका बाकि लोगो ने भी साथ दिया. बाद में कुछ ऐसा हुआ की क़ुरैश को यह करार तोड़ना पढ़ा आगे देखे.